NationalStoriesTop Storiesदेश

इस जगह Holi पर छुप जाते हैं दामाद जी, गांव में दामाद को Gadhe पर बिठाकर घुमाते हैं लोग

Holi का त्यौहार आने वाला है। लोग कई दिन पहले से ही तैयारी में जुट जाते हैं लेकिन एक जगह ऐसी भी है जहां घर के दामाद जी तैयारी में नहीं बल्कि छुपने की तैयारी करने लगते हैं। Holi की सबसे खास बात यह है कि यह अलग-अलग जगहों पर विभिन्न तरीके से मनाई जाती है। ऐसा ही एक तरीका महाराष्ट्र के बीड जिले का है जहां Holi के दिन दामाद को Gadhe पर बैठाकर घुमाया जाता है। दिलचस्प बात यह है कि यहां इस तरह Holi अस्सी साल से भी ज़्यादा समय से मनाई जाती है।

Holi मनाने की यह परंपरा महाराष्ट्र के बीड जिले के एक गांव में है। यहां लोग Holi के दिन अपने नए दामाद को बुलाते हैं। पिछले कुछ सालों से यहां Holi से पहले ऐसे दामाद को ढूंढा जाता है जिनकी नई-नई शादी हुई हो। सबसे नए दामाद के साथ Holi पर यह परंपरा निभाई जाती है और Holi के दिन दामाद को Gadhe पर ​बिठाकर रंग लगाया जाता है, साथ ही उन्हें उपहार भी दिया जाता है।

यहां की Holi सोशल मीडिया पर छाई रहती है। एक बार तो इस Holi के चक्कर में गांव के कुछ दामाद बचने के लिए छिपकर भागने की कोशिश करने लगे। लेकिन गांव के लोगों द्वारा उनपर पूरा पहरा रखा गया और उनके साथ पकड़कर Holi खेली गई। बताया जाता है कि करीब अस्सी साल पहले बीड जिले की केज तहसील स्थित विडा येवता गांव में एक देशमुख परिवार के एक दामाद ने Holi में रंग लगवाने से मना कर दिया। तब उनके ससुर उन्हें रंग लगाने के लिए मनाने की कोशिश में लग गए। उन्होंने फूलों से सजा एक गधा मंगवाया, उस पर दामाद को बिठाया और फिर उसे पूरे गांव में घुमाया गया और तभी से यह शुरू हो गया।

रिपोर्ट्स में इस बात का भी जिक्र है कि परंपरा की शुरुआत आनंदराव देशमुख नाम के एक निवासी ने की थी और उन्होंने ही पहले अपने दामाद के साथ ऐसी Holi मनाई थी। इतना ही नहीं कई बार तो यहां के लोग मज़ाक में दामाद को गधा भी गिफ्ट कर देते हैं और उनकी सवारी करवाई जाती है, साथ ही उनके पसंद के कपड़े भी दिए जाते हैं।

यह भी पढ़ें – 5 साल में बनकर तैयार होगा Gomti Expressway, लखनऊ से हल्द्वानी तक होगा सफर आसान 

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button