NationalPoliticsदेश

Rahul Gandhi को नहीं है सत्ता में दिलचस्पी

जो राजनीति से जुड़ा है उसे देखकर कोई भी यही कहेगा कि इस इंसान को राजनीति में दिलचस्पी होगी लेकिन पूरी तरह ये बात कहना सही नहीं है। कांग्रेस नेता Rahul Gandhi ने शनिवार(9 अप्रैल) को राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ और केंद्र सरकार पर सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि सभी संस्थान आरएसएस के कब्ज़े में हैं। उन्होंने चुनावों को लेकर भी चर्चा की।

हाल ही में Rahul Gandhi ने वरिष्ठ समाजवादी नेता शरद यादव से मुलाकात की थी। उस दौरान भी उन्होंने आरएसएस विरोधियों से एकजुट होने की बात कही थी। कांग्रेस के अलावा पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी समेत कई नेता विपक्ष को एक साथ आने की अपील कर चुके हैं।

Delhi में एक किताब के विमोचन में Rahul Gandhi ने कहा, ‘हमें संविधान को बचाना पड़ेगा। संविधान को बचाने के लिए हमें संस्थानों की रक्षा करनी पड़ेगी। लेकिन सभी संस्थान आरएसएस के नियंत्रण में हैं।’ इस दौरान Rahul Gandhi ने कहा कि उन्हें सत्ता में विपक्ष नहीं है। Rahul Gandhi ने कहा, ‘यहां नेता हैं,जो सत्ता के पीछे लगे हुए हैं। वे हमेशा सत्ता हासिल करने के बारे में सोचते रहते हैं…अब उसमें मेरी एक परेशानी आ गई, मैं सत्ता के एकदम बीच में पैदा हुआ, लेकिन सच कहता हूं मुझे इसमें दिलचस्पी नहीं है। इसके बजाए मैं देश को समझने की कोशिश करता हूं।’

शरद यादव के साथ बैठक के बाद Rahul Gandhi ने कहा था, ‘विपक्ष में… जो भी आरएसएस और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ हैं, उन्हें साथ आ जाना चाहिए। वे साथ कैसे आएंगे और ढांचा कैसे तैयार होगा, इसपर चर्चाएं जारी हैं।’ ख़ास बात है कि दोनों नेताओं के बीच बैठक ऐसे समय पर हुई जब कांग्रेस राष्ट्रपति और उप-राष्ट्रपति पद के लिए संयुक्त उम्मीदवार उतारने पर विचार कर रहा है।

यह भी पढ़ें – भारत में मिला XE Variant का दूसरा केस

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button