33.1 C
New Delhi
Tuesday, September 21, 2021

दरकते पहाड़, आफत ही आफत!

- Advertisement -spot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_img

वहां मौसम एक बार फिर आफत बन रहा है। वहां मानसून एक बार फिर कुछ कर गुजरने पर आमादा है। वहां मौसम है कि मानता नहीं। हम बात कर रहे हैं देवभूमि उत्तराखंड की जहां भारी बारिश के मौसम में जगह-जगह से पहाड़ों के दरकने की खबरें आ रही हैं। और इन खबरों की तस्दीक कर रही हैं ये तस्वीरें..

देखिये कैसे, पहाड़ टूट कर सड़कों पर आ रहे हैं…तस्वीरें बद्रीनाथ धाम की हैं…जिन्हें देखकर लोगों में इस कदर दहशत होती होगी कि पूछिये मत। ये नजारा दिखते ही वहां मौजूद लोग न सिर्फ चौंक गए बल्कि प्रकृति के इस दृश्य को उन्होंने अपने कैमरे में भी कैद किया। लोगों को लैंडस्लाइड होने का अंदाजा तो नहीं था, लेकिन जब ये हुआ तो इस नजारे को को रिकॉर्ड कर लिया गया। आपको वीडियो में नजर आ रहा होगा कि कैसे पहाड़ से मिट्टी धड़धड़ाते हुए नीचे गिर रही है। भूस्खलन जैसी स्थिति डराने के साथ ये सोचने पर मजबूर करती हैं कि आखिर ये सब हो कैसे रहा है। तो हम आपको बताते हैं आखिर इस स्थिति के पीछे की वजह क्या है। वजह कोई और नहीं है, इन नजारों के जिम्मेदार हम खुद हैं। भारी मूसलाधार बारिश के साथ भूकम्‍प भी भूस्‍खलन तो वजह है ही,लेकिन मानवीय क्रियाकलाप, जैसे कि पेड़ों और वनस्‍पतियों को साफ किया जाना, सड़कों का गहरा कटाव या पानी के पाइपों का रिसाव भी ये हालात पैदा करने के लिए उत्तरदायी है। हालांकि पहाड़ी भू-भागों में भूस्खलन एक मुख्य और व्यापक प्राकृतिक आपदा है जो आमतौर पर जीवन और संपत्ति को तो नुकसान पहुँचाती ही है साथ ही चिंता का एक खास मुद्दा भी है। कितनी विडंबना है कि कहां पहले पहाड़ में मानसून का स्वागत होता था परंपराओं के साथ,रीति-रिवाजों के साथ और आज यही मानसून इन पहाड़ों में एक बड़ी आफत और भय के रूप के जाना जाता है। देखा जाए तो आज दरकते पहाड़ ये इशारा कर रहे हैं कि अगर अब भी हमने पहाड़ों और उनकी प्रकृति को समझने की कोशिश नहीं की, तो हालात और भी बद-से बदतर हो सकते हैं।

- Advertisement -spot_imgspot_img
Latest news
- Advertisement -spot_img
Related news
- Advertisement -spot_img