MedicalNationalTop Storiesदेशस्वास्थ्य समाचार

World Hypertension Day 2022: जानें Delhi की एक चौथाई महिलाएं क्यों हो रही हैं High Blood Pressure की शिकार

देश विदेश में अब कम उम्र में ही लोग तनाव का शिकार हो रहे हैं और ये तनाव कई बीमारियों को जन्म देता है। आज World Hypertension Day 2022 मनाया जा रहा है। आपको जानकर हैरानी होगी कि Delhi में एक चौथाई महिलाएं और लगभग एक तिहाई पुरुष High Blood Pressure (हाइपरटेंशन) से पीड़ित हैं। यह जानकारी हाल ही में जारी हुए नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे में सामने आई है।

ऐसे मरीज़ जिनका Blood Pressure (सिस्टोलिक) 140 से अधिक या (डायस्टोलिक) 90 से अधिक हो या BP कम करने की दवा लेते हैं तो उन्हें High Blood Pressure से पीड़ित माना जाता है। बता दें कि रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली में 32.8 फीसदी पुरुषों और 24.1 फीसदी महिलाओं में High Blood Pressure की समस्या देखी गई।

ह्रदय रोग विभाग के प्रोफेसर और डॉक्टर का कहना है कि बहुत से लोगों को यह नहीं पता होता कि उन्हें Blood Pressure की समस्या है। एक अन्य अध्ययन के हवाले से उन्होंने कहा, देश में Blood Pressure के सिर्फ 9 मरीजों का ही Blood Pressure नियंत्रण में रहता है। बहुत लोग समय पर दवाएं ही नहीं लेते।

डॉक्टर का कहना है कि लगभग पांच से दस फीसदी लोगों में Blood Pressure की बीमारी सेकेंडरी हाइपरटेंशन की होती है। सेकेंडरी हाइपरटेंशन ब्लड प्रेशर बढ़ने की वह स्थिति है जो किसी अन्य बीमारी या उसके इलाज के तहत लेने वाली दवाओं से होती है। यह कम उम्र में भी हो सकता है।

जानें, Blood Pressure के मुख्य लक्षण

सिर दर्द, चक्कर आना, थकान, सुस्ती, और दिल की धड़कन का बढ़ना, सीने में दर्द, सांसें तेज चलना या सांस लेने में तकलीफ होना और धुंधला दिखना।

High Blood Pressure से बचाव के उपाय

फल, सब्जियां और अंकुरित अनाज का सेवन करें। नियमित रूप से व्यायाम और योग करें। तनाव से बचें। धूम्रपान और शराब का सेवन नहीं करना चाहिए।

ह्रदय रोग विशेषज्ञ ने बताया कि अधिकतर लोगों में उम्र के साथ Blood Pressure की समस्या बढ़ती है। चिंता, तनाव और अनियंत्रित खान-पान भी बड़ी वजह है। मोटापा, नींद की कमी, तैलीय पदार्थ और नमक का अधिक सेवन भी इसके कारण हैं।

40 से कम उम्र के लोग, किडनी या दिल की बीमारी से पीड़ित लोग, ऐसे मरीज जिनका Blood Pressure दो या इससे ज्यादा दवाएं लेने के बाद ही नियंत्रण में आता है या नियंत्रण में नहीं आ पाता है तो ऐसे लोगों में सेकेंडरी हाइपरटेंशन हो सकता है। डॉक्टरों के अनुसार, जिस वजह से Blood Pressure बढ़ा है जब तक उसे ठीक नहीं किया जाएगा, तब तक दवाओं का इस पर ज़्यादा असर नहीं होगा।

यह भी पढ़ें – एक्सपर्ट्स ने चेताया, लू हो सकती है जानलेवा, बाहर जाने से बचें 

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button