Home उत्तर प्रदेश राहुल गांधी के घर बारात लेकर जाऊंगी- डॉक्टर समीना

राहुल गांधी के घर बारात लेकर जाऊंगी- डॉक्टर समीना

0 second read
0
0
13

बुलंदशहर। बहुविवाह और हलाला को असंवैधानिक करार देने को सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करने वाली डॉ. समीना का कहना है कि महागठबंधन के नेता तीन तलाक संबंधी बिल में रोड़ा अटका रहे हैं। राहुल गांधी यदि बिल पास कराने में सहयोग नहीं करते तो इसका अर्थ है कि वह शरिया कानून और बहुविवाह का समर्थन करते हैं। ऐसे में उन्हें तलाक पीडि़त चार महिलाओं से शादी करनी चाहिए। यदि राहुल गांधी ऐसा नहीं करते तो वे खुद बरात लेकर उनके घर जाएंगी। बुलंदशहर में पत्रकार वार्ता में संभल की मूल निवासी डॉ. समीना ने कहा कि वह खुद दो बार तीन तलाक की पीडि़ता हैं। उन्होंने व छह अन्य महिलाओं ने बहुविवाह, निकाह-हलाला को असंवैधानिक करार देने को सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर रखी है। इनमें बुलंदशहर के गांव जौलीगढ़ निवासी रानी शबनम और सिकंदराबाद निवासी फरजाना भी शामिल हैं। तीन तलाक संबंधी बिल को संसद में पारित होने से रोकने के लिए ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड, देवबंद समर्थक और महागठबंधन के नेता एकमत हैं। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव भी उनमें शामिल हैं।

राहुल गांधी यदि शरिया कानून और बहुविवाह के समर्थक हैं तो उन्हें कथित तौर पर जायज बताई जाने वाली चार शादियां तलाक पीडि़त महिलाओं से करनी चाहिए। उनके ऐसा न करने पर वह खुद तलाक पीडि़ताओं के साथ बरात लेकर उनके घर पहुंचेंगी। अखिलेश यादव को भी ऐसा करना चाहिए। डॉ. समीना ने स्पष्ट किया कि उनका किसी राजनीतिक दल से संबंध नहीं है। हालांकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुस्लिम महिला हितों के लिए सकारात्मक कदम उठा रहे हैं। मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के मेरठ प्रांत संयोजक कदीम आलम, जिला संयोजक मोहम्मद रिहान आदि रहे। रानी शबनम और फरजाना भी रहीं। इस दौरान अपने दो बच्चों के साथ मौजूद रानी शबनम अधिकांश समय सुबकती रहीं।

बरेली में ससुर से हलाला के बाद मां बनी मुरादाबाद की पीडि़त महिला, ससुर और शौहर के खिलाफ दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कराएगी। बुधवार को राज्य अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष तनवीर हैदर उस्मानी को पूरा घटनाक्रम बताने के बाद पीडि़ता मेरा हक फाउंडेशन की अध्यक्ष फरहत नकवी के साथ कानूनी कार्रवाई का रुख करेगी। फरहत नकवी के मुताबिक, ससुर के साथ हलाला नहीं हो सकता। इसलिए ससुर ने जो किया वह दुष्कर्म है। दूसरी बात, ससुर से हलाला के समय पीडि़ता पहले शौहर की बीवी नहीं थी। इद्दत के समय शौहर ने उसके साथ जबरन संबंध बनाए, तो यह भी दुष्कर्म हुआ। यानी दोनों ने जो किया वह दुष्कर्म है। वहीं जिन मौलवियों ने हलाला कराया, वे भी दुष्कर्म में भागीदार हैं। उन्होंने कहा कि इन सबके विरुद्ध पीडि़ता की ओर से मुकदमा दर्ज कराने के बाद सुप्रीम कोर्ट जाऊंगी। प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री, कानूनी मंत्री को पत्र लिखकर हलाला पर प्रतिबंध लगाने की मांग करूंगी।

Load More Related Articles
Load More By Ankit Nagar
Load More In उत्तर प्रदेश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह में सिद्धू ने ये क्या कर दिया ?

इस्लामाबाद। इमरान खान ने पाकिस्तान के 22वें प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ ले ली है। उनके शपथग…