Home जरूर पढ़े अमेरिका के विरोध के बावजूद रूस से S-400 मिसाइल खरीदेगा भारत

अमेरिका के विरोध के बावजूद रूस से S-400 मिसाइल खरीदेगा भारत

2 second read
0
0
51

नई दिल्ली। दुनिया की सबसे बेहतरीन एंटी मिसाइल प्रणाली में से एक रूस की एस-400 मिसाइल सिस्टम के सौदे पर अमेरिका के विरोध के बावजूद भारत ने सख्त रुख अख्तियार कर लिया है। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया कि यह सौदा सम्पन्न होने की कगार पर है और अगले चार साल के अंदर ये मिसाइल देश की सुरक्षा के लिए तैनात कर दी जाएगी। रक्षा मंत्री ने बताया कि अमेरिका द्वारा इस मिसाइल को हासिल करने पर किये जा रहे एतराज को भारत कभी नहीं मान सकता। रक्षा मंत्री ने दो टूक शब्दों में कहा कि उन्होंने अमेरिकी सासंदों और अधिकारियों से साफ कहा है कि रूस के साथ रक्षा सम्बन्ध रखने वाले कैटसा कानून को भारत नहीं मानता है क्योंकि यह अमेरिकी कानून है भारत का नहीं। उन्होंने अमेरिका से यह भी कहा है कि रूस और भारत के रक्षा संबंध दशकों पुराने हैं और इसमें किसी तरह की अड़चन नहीं पैदा की जा सकती।

बता दें कि रूस से इस मिसाइल को खरीदने के लिये कई सालों से बातचीत चल रही थी और अब यह सौदेबाजी के निर्णायक दौर में पहुंच गई है। उल्लेखनीय है कि अमेरिका ने कैटसा यानि काउंटरिंग अमेरिकन एडर्वसर्रीज थू्र सैंक्शंस एक्ट) पारित किया है जिसके जरिये वह सभी देशों को धमकी दे रहा है कि रूस से कोई रक्षा साजो सामान खरीदा तो उस देश के खिलाफ प्रतिबंध लगाए जाएंगे। गौरतलब है कि एस-400 एंटी मिसाइल प्रणाली दुश्मन की किसी भी हमलावर बैलिस्टक मिसाइल को आसमान में ही करीब 250 किलोमीटर दूर तक ध्वस्त कर सकती है। चीन और पाकिस्तान की बैलिस्टिक मिसाइलों को भारत के शहरों पर गिरने से रोकने के इरादे से एस-400 मिसाइल प्रणाली की खरीद का अहम फैसला लिया गया है। ऐसी पांच एंटी मिसाइल खरीदने पर बातचीत चल रही है जिस पर पौने छह अरब डालर की लागत आ सकती है।

Load More Related Articles
Load More By Ankit Nagar
Load More In जरूर पढ़े

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

बिहार कांग्रेस प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने गांधीजी की जयंती की जगह मना दी पुण्यतिथि

पटना। बिहार कांग्रेस प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने मंगलवार को गांधी जयंती के अवसर पर ट्वीट क…