Home Breaking News स्विस बैंकों में भारतीयों का धन 50 फीसदी वृद्धि के साथ 7000 करोड़ रुपये हुआ

स्विस बैंकों में भारतीयों का धन 50 फीसदी वृद्धि के साथ 7000 करोड़ रुपये हुआ

0 second read
0
0
73

नई दिल्ली। कालेधन धारकों के लिए मक्का कहे जाने वाले स्विस बैंकों में भारतीयों का जमा पैसा चार साल में पहली बार बढ़ कर एक अरब स्विस फैंक यानि करीब 7000 करोड़ रुपये हो गया है। कालेधन का यह आकड़ा एक साल पहले की तुलना में 50 प्रतिशत की वृद्धि दर्शाता है। स्विट्जरलैंड के केंद्रीय बैंक के ताजा आंकड़ों में यह बात सामने आई है। इसके अनुसार भारतीयों द्वारा स्विस बैंक खातों में रखा गया धन 2017 में 50% से अधिक बढ़कर 7000 करोड़ रुपये (1.01 अरब फ्रेंक) हो गया।

आपको बता दें कि इससे पहले तीन साल तक स्विस बैंकों में भारतीयों के जमा धन में लगातार गिरावट आई थी। दरअसल अपनी बैंकिंग गोपनीयता के लिए पहचान बनाने वाले इस देश में भारतीयों के जमाधन में ऐसे समय दिखी बढ़ोतरी हैरान करने वाली है जबकि भारत सरकार विदेशों में कालाधन रखने वालों के खिलाफ अभियान चलाए हुए है। स्विस नेशनल बैंक (एसएनबी) के सालाना आंकड़ों के अनुसार स्विस बैंक खातों में जमा भारतीय धन 2016 में 45 प्रतिशत घटकर 67.6 करोड़ फ्रेंक (लगभग 4500 करोड़ रुपये) रह गया था। यह राशि 1987 से इस आंकड़े के प्रकाशन की शुरुआत के बाद से सबसे कम थी।

स्विस नेशनल बैंक के आंकड़ों के अनुसार भारतीयों द्वारा स्विस बैंक खातों में सीधे तौर पर रखा गया धन 2017 में लगभग 6891 करोड़ रुपये (99.9 करोड़ फ्रेंक) हो गया। वहीं प्रतिनिधियों या धन प्रबंधकों के जरिए रखा गया धन इस दौरान 112 करोड़ रुपये (1.62 करोड़ फ्रेंक) रहा। ताजा आंकड़ों के अनुसार स्विस बैंक खातों में जमा भारतीयों के धन में ग्राहक जमाओं के रूप में 3200 करोड़ रुपये, अन्य बैंको के जरिए 1050 करोड़ रुपये शामिल है। इन सभी मदों में भारतीयों के धन में आलोच्य साल में बढ़ोतरी हुई। इस बीच स्विटजरलैंड के बैंकों का मुनाफा 2017 में 25% बढ़कर 9.8 अरब फ्रेंक हो गया। हालांकि इस दौरान इन बैंकों के विदेशी ग्राहकों की जमाओं में गिरावट आई।

Load More Related Articles
Load More By fmnews
Load More In Breaking News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

राशिद हाशमी के साथ देखिए यूपी के पावर मिनिस्टर का सबसे पावरफुल इंटरव्यू